Latest

6/recent/ticker-posts

A Prayer For My Daughters By Alok Bhalla


 

Life never says

this is ‘my good’

this ‘my bad’

this seed will blossom

this lie fallow.

An apple is sweet in infinite ways

and there’s no fixed flight for birds

and every path leads to other trails

and there are thorns under rose bushes

and there are signs and songs for seekers

and words understood or misunderstood

and strangest stories from seas beyond the sun

and the strongest strategies for the soul’s survival.

What other splendour can the stars promise?

What other destiny can life’s breath offer

except the search, the failure and the search?

So be a visionary at the door of your dreams

wait as the wind changes from salt to cinnamon

since life only offers choices, not desolate fate

see that sparkle in the sand as the wind scuttles slowly

catch the omen of the harvest rain in time’s furrows

and there is always an unknown friend near the bend

with an unexpected story to tell and a chance gift in hand.

So, search here and there   here   and   there

                                                          And here   and   there  

And here   and   there   and there   here

And      there      and      there

                                                        Here   there   and here

there   and there

and everywhere.

Wherever there is life and work  

there are chances

and new things to do

that pop-up like fireflies once you open your eyes and look.

 

No firefly says

this is ‘my good’

this ‘my bad’.







अपनी बेटियों के लिए एक प्रार्थना 
                -आलोक भल्ला
 

कभी नहीं कहता है जीवन
यह ठहरा मेरा भला,
यह बुरा,
यह बीज खिल जाएगा
और यह पड़ा रहेगा उन्मन!
एक सेब मीठा होता है कई तरह से
और चिड़ियों की उड़ान कभी तयशुदा नहीं होती!
हर पथ से फूटती हैं कितनी पगडंडियाँ
और होते ही  हैंकाँटे झाड़ियों में गुलाब की!
ढूँढनेवाले को मिल ही जाते हैं संकेत
गुनगुनाहट में कहीं सोए,
कुछ समझ में आते और कुछ समझ के परे!
कुछ रहस्यविह्वल गाथाएँ ,सूरज के पार का समुन्दर,
रणनीतियाँ कुछ बज़िद कि बचा लेंगी

डूब रहा है जो अंदर- अंदर!
वैभव अगाध! अब इससे ज़्यादा क्या वादा करेंगे सितारे
और नियति की साँसें दे भी सकती हैं क्या:
संधान, श्रम और आशाओं के सिवा?
अपने सपनों की चौखट से तुम देखो विराट एक महास्वप्न
और इंतज़ार करो कि यह हवा पलटे,
जीवन तो खोलता है बस विकल्पों के दरवाज़े,
देखना बस यह होता है कि  झीनीहवा में
बालू से छिटके चिंगारी
और काल के हल से साइत जगे
घहरती बारिश की!
हर मोड़ पर  मिल ही जाता है एक अनजान सखा,
बाँच जोजाता है नई कथा ,
और थमा जाता है पाथेय एक नया!
इसीलिए
देखो
इधर - उधर
उधर- इधर
इधर
उधर
जाने किधर,
हर तरफ़
जीवन है जहाँ जहाँ,
उम्मीद वहाँ वहाँ
कुछ कर गुज़रने की
करने की
कुछ
तो!
अवसर हैं जुगनू
देखो न, खोलो न आँखें ,
ये पाँखें,
जुगनू नहीं कहते:
ये ठहरा मेरा भला,
ये बुरा..

              अनुवाद : अनामिका 


Post a comment

0 Comments